Blog

I Say Chaps

Magiquest

नीलम नीलम चंदिनी में डूबे , पूनम पूनम के चाँद से चेहरे , कर्मठ, कार्यकुशल और कुलीन , अचंभित ,मैं बैठा भाव विलीन  कोमल कोमल कर कमलों के,  विमल विमल मोहक मोहरे , नीलम नीलम चाँदनी में डूबे , पूनम  पूनम के चाँद से चेहरे. The hall was dazzling with blue clad glamour divas when…
Read more


January 13, 2020 3

शिशिर की ठिठुरती रात

ठंडी, सूनी श्यामल राहों को, शबनम की बूंदों का साथ है, ये शिशिर की ठिठुरती रात है। धूमिल चांदनी, चढ़ता कुहासा शुष्क शाखों पर दुबके पंछी, चौपालों की सहमी झुर्रियों को, स्नेही प्रज्वला की सौगात है। ये शिशिर की ठिठुरती रात है। लोहड़ी के सुमधुर गीतों पर, ठुमकते कदम, पिघलती बाहें , अनकही, कल्पित आंहों…
Read more


January 10, 2020 0

कुरुक्षेत्र

समय आया बड़ा विचित्र है,क्षितिज पर अजीब चित्र है,धरा का भी हाल बेहाल है,दिशाओं में फैला काल है,व्याधि घुली है फिज़ाओं में,आसमानी सागर भी लाल है,पार्थ संबोधित है अर्जुन से,खड़ा कलयुगी कुरुक्षेत्र में।। पतंगा लील रहा ज्योति को,दूषित, कलुषित जल गंगा का।आदि चीख रहा अनादि को,व्यभिचारी सुर मन मृदंगा का।किस्से और क्यों मैं समर करूं,धर्म…
Read more


January 1, 2020 3

सफ़र

चाहतें यूं ही नहीं अक्सर मंज़िल को तरस जाती हैं,बस्ती और वीराना दोनों मुझसे नाराज़ है। सैलाब कब का, पशेमां हो कर गुज़र चुका है, हवाओं को नजाने क्यों खुद पे नाज़ है। वफ़ा सरे राह बैठी है एक तल्मीह के इंतज़ार में, जाने तेरे रुखसार में वो क्या इक राज़ है। शायरी क्या है…
Read more


December 31, 2019 1

गुफ़्तगू

एक शाम यादों में , एक शाम आहों में। एक पुराना बरगद और उसपे बैठा इक परिंदा। गाँव की गलियाँ वो रंगरलियाँ, इमली के पेड़ और गुड़ की डलियाँ , एक तेरे शहर का शोर और , एक ख़ामोशज़दा बाशिंदा, बरगद टूट रहा, साथी छूट रहा, परिंदा बेचैन है फ़िज़ाओं में । एक शाम आँखों…
Read more


December 27, 2019 0

Euphoria Infinite

I had been a fiddle-footed gadabout especially with regards to my thoughtful sojourns in social gatherings and events but this Fais-dodo of excitement was different. I had been pulled, lured, cajoled and sculpted to make my first stage appearance in the past forty years. On that cold winter evening when the mercury had stooped so…
Read more


December 24, 2019 8

Norway

Just a small distance away from the north pole of the earth on a barren stretch of a frozen lake where the pearly radiance of ice illuminates the horizon like a glowing thread, I am reclining on crafty sled busy enjoying the hospitality of Angis and of Delfin, Furoe and Adrian. ” Ha Delfin Ha…Buck-up…
Read more


November 28, 2019 0

Hungama night

“ये मेरा दिल प्यार का दीवाना …. In that adorable ambience of Sharad Poornima night when the moon was shining with its full vitality and viridity, I stood watching the mermaids dance. But for my stupid aplomb and self control, I would surely, have loved to embrace those alluring smiles and the flexuous sheen. No!…
Read more


October 14, 2019 0

Thinkers conclave…Opening doors, opening mind.

“The lingering taste of togetherness that will surely find a befitting niche in our memory…” the young anchor said as I entered into an auditorium jam-packed with a spellbinding wave of enthusiasm for the grand finale of ‘Thinkers Conclave’. Earlier, before arriving for the show, I was lead by my host, the very gracious, very…
Read more


October 13, 2019 1

Ageing gracefully

Perhaps compare to the rest of the day, the Sun looks most beautiful in the twilight when the cloudy wrinkles enhance its aesthetic features making it glow with the trueness of its colours. Hi Shishir; Surprised? Oh! Don’t be. My voice sounds a little shaded yet so familiar. you should look at my picture, the…
Read more


October 6, 2019 2