Month: January 2020

I Say Chaps

MEDICON 2020

After two hugely successful workshop days when this academic event reached its culmination on the final conference day, I was a little shilly-shally about its performance with less than the countable number of attendees in the morning. I thought let’s keep twenty-twenty hindsight- it’s not easy to ensemble the entire orchestra of such discordant instruments,…
Read more


January 14, 2020 0

Magiquest

नीलम नीलम चंदिनी में डूबे , पूनम पूनम के चाँद से चेहरे , कर्मठ, कार्यकुशल और कुलीन , अचंभित ,मैं बैठा भाव विलीन  कोमल कोमल कर कमलों के,  विमल विमल मोहक मोहरे , नीलम नीलम चाँदनी में डूबे , पूनम  पूनम के चाँद से चेहरे. The hall was dazzling with blue clad glamour divas when…
Read more


January 13, 2020 3

शिशिर की ठिठुरती रात

ठंडी, सूनी श्यामल राहों को, शबनम की बूंदों का साथ है, ये शिशिर की ठिठुरती रात है। धूमिल चांदनी, चढ़ता कुहासा शुष्क शाखों पर दुबके पंछी, चौपालों की सहमी झुर्रियों को, स्नेही प्रज्वला की सौगात है। ये शिशिर की ठिठुरती रात है। लोहड़ी के सुमधुर गीतों पर, ठुमकते कदम, पिघलती बाहें , अनकही, कल्पित आंहों…
Read more


January 10, 2020 0

कुरुक्षेत्र

समय आया बड़ा विचित्र है,क्षितिज पर अजीब चित्र है,धरा का भी हाल बेहाल है,दिशाओं में फैला काल है,व्याधि घुली है फिज़ाओं में,आसमानी सागर भी लाल है,पार्थ संबोधित है अर्जुन से,खड़ा कलयुगी कुरुक्षेत्र में।। पतंगा लील रहा ज्योति को,दूषित, कलुषित जल गंगा का।आदि चीख रहा अनादि को,व्यभिचारी सुर मन मृदंगा का।किस्से और क्यों मैं समर करूं,धर्म…
Read more


January 1, 2020 3