My Travel Diary

Happy Republic Day 2022

मैं क्यों कहूँ कि तुम भी
इस मिट्टी से प्यार करो
शस्त्र उठाओ, प्रहार करो
शत्रु दिखे तो संघार करो।

मैं क्यों कहूँ कि तुम भी
शांति की मशाल बनो
अमर ज्योति जवान बनो
सतत जलना स्वीकार करो
गणतंत्र दिवस का इंतज़ार करो ।

मैं क्यों कहूँ कि तुम भी
नारी का सम्मान करो
भ्रूण हत्या पर धिक्कार करो
कन्या दहन पर चीत्कार करो
संसद में हाहाकार करो ।

मैं क्यों कहूँ कि तुम भी
श्वेताम्बरधारी सौहार्द बनो
परोपकार पर जीवन निसार करो
पिट पिट कर भी उपचार करो ।

मैं क्यों कहूँ कि तुम भी
इस मिट्टी से प्यार करो
शस्त्र उठाओ प्रहार करो
शत्रु दिखे तो संघार करो।

मैं क्यों कहूँ कि तुम भी
क़समें खाओ बलिदान करो
रणभूमि लहू से लाल करो
मैं क्यों कहूँ कि तुम भी
अपने देश से प्यार करो ॥

देशभक्ति वो प्रेमफूल नही 

जो यौवन का इंतज़ार करे 

जन्मजात बीमारी है जनाब, 

जिसको होती है, बस होती है ।।

शिशिर

Leave a Reply

%d bloggers like this: