Showing: 1 - 10 of 18 RESULTS

सफ़र

चाहतें यूं ही नहीं अक्सर मंज़िल को तरस जाती हैं,बस्ती और वीराना दोनों मुझसे नाराज़ है। सैलाब कब का, पशेमां हो कर गुज़र चुका है, …

निशब्द…

हिमगिरि के उतंग शिखर पर बैठा एक महर्षि, आलोकित वाणी से कर रहा युगांतर प्रलय पाठ। इधर श्वेत मूंछों पर करों का कोमल प्रहार, उधर …

%d bloggers like this: