Showing: 1 - 3 of 3 RESULTS

निशब्द…

हिमगिरि के उतंग शिखर पर बैठा एक महर्षि, आलोकित वाणी से कर रहा युगांतर प्रलय पाठ। इधर श्वेत मूंछों पर करों का कोमल प्रहार, उधर …

Follow Me!
%d bloggers like this: